उसी बापू को मेरा फ़िर नमन आज श्रद्धा का यारों । उसी बापू को मेरा फ़िर नमन आज श्रद्धा का यारों ।

(शहीद दिवस पर विशेष ) जहाँ पे खुशनुमा गुल से सजा हो गुलिस्तां यारों समझ लेना वही है गांधी का हिन्दुस्तां यारों । हमेशा अम्न के ही वास्ते...

और जानिएं »
12:59 pm

भारतीय गणतंत्र का ६० वें वर्ष में प्रवेश , मुबारक हो मेरे देश ! भारतीय गणतंत्र का ६० वें वर्ष में प्रवेश , मुबारक हो मेरे देश !

सर पे हिमालय का मुकुट चरणों में सागर है , ज़रा नजदीक से देखो हंसी भारत का मंजर है । सभी को प्यार से पानी पिलाने की मेरी तहजीब- मेरे ...

और जानिएं »
12:42 pm

वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग-11) वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग-11)

"रोज गिर जाती है दीवार तेरे वादों की रोज हम मौत के साए में रहा करते हैं!" बस यही है सच्चाई हमारे समाज की, लेकिन इस समाज में कुछ...

और जानिएं »
2:39 pm

वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग-10) वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग-10)

हिन्दी चिट्ठा हलचल - २००८ अब समापन की ओर तेजी से अग्रसर है, किंतु जो महत्वपूर्ण विषय अभी तक छूटे हुए हैं उसके बिना इस महायज्ञ की पूर्णाहुति...

और जानिएं »
4:07 pm

वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग- 9) वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग- 9)

अब हम जिस ब्लॉग की चर्चा करने जा रहे हैं उसका नाम है “ प्राइमरी का मास्टर “ जी हाँ मास्टर साहब हैं उत्तर प्रदेश के फतेहपुर के प्रवीण त्रिव...

और जानिएं »
11:32 am

वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग- 8) वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग- 8)

आज मैं जिन चिट्ठों की चर्चा करने जा रहा हूँ, वह चिट्ठा है तो विषय आधारित हीं, मगर मुझे उन चि...

और जानिएं »
6:04 pm

वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग- 7) वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग- 7)

किसी ने खूब ही कहा है- "हँसना रवि की प्रथम किरण सा, कानन मेंनवजात शिशु सा ।" हमारा ...

और जानिएं »
1:41 pm

वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग- 6 ) वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग- 6 )

हिन्दी का एक और वेहद महत्वपूर्ण ब्लॉग है “ रचनाकार “ । यह वरिष्ठ चिट्ठाकार और सृजन शिल्पी श्री रवि रतलामी जी का ब्लॉग है , यह केवल ब्लॉग नह...

और जानिएं »
4:34 pm

वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग- 5 ) वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग- 5 )

"आज लहू का कतरा कतरा स्याई बना है,और ये जख्मी दिल ही खत की लिखाई बना है. " ये पंक्तियाँ हैं सीमा गुप्ता की , जिनका ब्लॉग है "...

और जानिएं »
1:24 pm

वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग- 4 ) वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल (भाग- 4 )

“यूँ न रह-रह के हमें तरसायिये, आईये, आ जाईये , आजायिये ,फ़िर वही दानिश्ता ठोकर खाईये, फ़िर मेरे आगोश में गिर जाईये,मेरी दुनिया मुन्तजिर है आप...

और जानिएं »
6:44 pm

वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल ( भाग- 3 ) वर्ष-2008 : हिन्दी चिट्ठा हलचल ( भाग- 3 )

सबसे पहले परिकल्पना के समस्त सुधि पाठकों , शुभ चिंतकों को - नव वर्ष-२००९ की मंगलकामनाएं ! --------------------------------------------...

और जानिएं »
6:37 pm
 
Top