हमारा धर्म बाद में है पहले हम भारतीय हैं ...! हमारा धर्म बाद में है पहले हम भारतीय हैं ...!

आज जब मैं सुबह-सुबह घर से दफ्तर के लिए निकला, तो मेरी छोटी बिटिया उर्वशी ने कहा -" पापा ! आपका दफ्तर आज बंद नहीं है? " मैंने कहा-...

और जानिएं »
10:40 am

जिंदगी के मायने समझ जाओगे । जिंदगी के मायने समझ जाओगे ।

हंसोगे, रोओगे, गुनगुनाओगे जिंदगी के मायने समझ जाओगे । मिल जायेगी मोती तुम्हे भी तब- जब समुद्र में गहरे उतर जाओगे । माँ कहती है कि अक्ल आ...

और जानिएं »
1:06 pm

हम सांप से ज्यादा जहरीले हो गए हैं हम सांप से ज्यादा जहरीले हो गए हैं

स्वार्थ के दांत कितने नुकीले हो गए हैं हम सांप से ज्यादा जहरीले हो गए हैं । हर कोई समझने में करने लगा है भूल- क्योंकि हमारे आवरण चमकीले...

और जानिएं »
10:30 am

राजपथ पर बुत बने हैं राम क्यों ? राजपथ पर बुत बने हैं राम क्यों ?

ग़ज़ल : मच रहा है मुल्क में कोहराम क्यों , राजपथ पर बुत बने हैं राम क्यों ? रोज आती है खबर अखवार में , लूट, हत्या , ख़ौफ , कत्लेयाम क्यो...

और जानिएं »
12:40 pm

सही तैराक हो तो धार से नफरत नहीं करता..... सही तैराक हो तो धार से नफरत नहीं करता.....

ग़ज़ल : किसी दरिया,किसी मझदार से नफरत नहीं करता सही तैराक हो तो धार से नफरत नहीं करता । यक़ीनन शायरी का इल्म जिसके पास होता वह - क...

और जानिएं »
9:39 am

मंदिर-मस्जिद मुद्दों में बस खो गया है आदमी । मंदिर-मस्जिद मुद्दों में बस खो गया है आदमी ।

ग़ज़ल आज अपने आप में क्या हो गया है आदमी , जागने का वक़्त है तो सो गया है आदमी । भूख की दहलीज़ पर जगता रहा जो रात- दिन , चंद रोटी खोजने मे...

और जानिएं »
11:36 am

क्या ठीक हों जाएगा ? क्या ठीक हों जाएगा ?

जब - बीमार अस्पताल की बीमार खाट पर पडी मेरी बूढ़ी बीमार माँ खांस रही थी बेतहाशा तब महसूस रहा था मैं कि, कैसे - मौत से जूझती है एक आम ...

और जानिएं »
2:53 pm

तुम्हारी आंखों में .... तुम्हारी आंखों में ....

ग़ज़ल ख़्वाबों की ताबीर तुम्हारी आँखों में है, शोख़ जवाँ कश्मीर तुम्हारी आँखों में है। तुझमें है तासीर मोहब्बत की भीतर त...

और जानिएं »
10:30 am

ज़िंदगी के श्वेत पन्नों को न काला कीजिये ज़िंदगी के श्वेत पन्नों को न काला कीजिये

ग़ज़ल ज़िंदगी के श्वेत पन्नों को न काला कीजिये आस्तिनों में संभलकर सांप पाला कीजिये। चंद शोहरत के लिए ईमान अपना बेचकर - हादसों के साथ खु...

और जानिएं »
11:00 am

आभासी दुनिया की मित्रता कैसी होनी चाहिए ? आभासी दुनिया की मित्रता कैसी होनी चाहिए ?

जन्म के साथ मनुष्य के संवंधों का सिलसिला प्रारंभ हो जाता है । विभिन्न संवंधों का निर्वाह करता हुआ मनुष्य आजीवन सुख-दु:ख का भोग करता चलता है...

और जानिएं »
2:32 pm

ब्लोगिंग को बनाएं तनावमुक्त जीवन का एक हिस्सा ब्लोगिंग को बनाएं तनावमुक्त जीवन का एक हिस्सा

हर व्यक्ति जीवन में पद,प्रतिष्ठा, प्रशंसा , पैसा और प्रसिद्धि की उच्चाकांक्षा रखता है । यही पांच "प" व्यक्ति के तनाव का मुख्य कार...

और जानिएं »
10:28 am

बेनामी टिप्पणियों की पहचान करें .... बेनामी टिप्पणियों की पहचान करें ....

परसों की पोस्ट "अच्छे ब्लॉग लेखन के लिए जरूरी है .....!" से आगे बढ़ते हुए आज प्रस्तुत है - कैसे करें बेनामी टिप्पणियों की पहचान ...

और जानिएं »
11:00 am

हिंदी का मोल हिंदी का मोल

हिंदी दिवस पर विशेष - दो- तिहाई विश्व की ललकार है हिंदी मेरी - माँ की लोरी व पिता का प्यार है हिंदी मेरी । बाँधने को बाँध लेते लोग दरिया...

और जानिएं »
10:17 am

अच्छे ब्लॉग लेखन के लिए जरूरी है...... अच्छे ब्लॉग लेखन के लिए जरूरी है......

पिछले दो पोस्ट में मैंने ब्लॉग लेखन से संवंधित कुछ महत्वपूर्ण पहलूओं पर प्रकाश डाला, किन्तु जब अनुशासन की बात आई तो एक ब्लोगर जिनके नाम का उ...

और जानिएं »
10:30 am

प्रेम तकलीफ है .....पर आदमी बनने के लिए जरुरी है तकलीफ से गुजरना ....! प्रेम तकलीफ है .....पर आदमी बनने के लिए जरुरी है तकलीफ से गुजरना ....!

जहां समाप्ति की नियति है वहां हर कर्म क्षणिक और अपने लिए गढ़ा गया हर अभिप्राय भ्रम होता है इसलिए- शुरू की जानी चाहिए मृत्यु से ...

और जानिएं »
2:33 pm

कर लो कबूल मेरा भी सलाम ईद का ... कर लो कबूल मेरा भी सलाम ईद का ...

अमनो-अमां और आपसी भाईचारे का त्यौहार "ईद" एक ओर जहां बफादारी के साथ इताअत यानी अल्लाह के बताये मार्ग पर चलने का सन्देश देता है व...

और जानिएं »
11:00 am

अपाहिजों के खेल में अंधे तमाशबीन अपाहिजों के खेल में अंधे तमाशबीन

अगली सदी के हैं ये ख़्वाब बेहतरीन अपाहिजों के खेल में अंधे तमाशबीन तारीफ़ यूँ करेंगे गूंगे भी बेहिसाब- संसद करेगा पागलों की बात पर यकीन भ...

और जानिएं »
1:39 pm

ब्लोगिंग में अनुशासन का महत्व .... ब्लोगिंग में अनुशासन का महत्व ....

पिछले पोस्ट में मैंने ब्लॉग की व्याख्या प्रस्तुत की थी । उसी क्रम में आज प्रस्तुत है ब्लोगिंग में अनुशासन का महत्व । जैसा कि आप सभी को विदि...

और जानिएं »
11:22 am

आप ब्लॉग क्यों लिखते हैं ? आप ब्लॉग क्यों लिखते हैं ?

राष्ट्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संचार परिषद, नई दिल्ली (भारत सरकार) और तस्लीम, लखनऊ द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित, 'ब्लॉग लेखन के द्व...

और जानिएं »
12:38 pm

एक नज़र इधर भी ... एक नज़र इधर भी ...

परिकल्पना पर आज : '' हो गयी हर घाट पर पूरी व्यवस्था , शौक़ से डूबें जिसे भी डूबना है '' हो गयी हर घाट पर पूरी व्यवस्था , शौ...

और जानिएं »
1:57 pm

'' हो गयी हर घाट पर पूरी व्यवस्था , शौक़ से डूबें जिसे भी डूबना है '' '' हो गयी हर घाट पर पूरी व्यवस्था , शौक़ से डूबें जिसे भी डूबना है ''

'' हो गयी हर घाट पर पूरी व्यवस्था , शौक़ से डूबें जिसे भी डूबना है '' दुष्यंत ने आपातकाल के दौरान ये पंक्तियाँ कही थी , तब श...

और जानिएं »
1:03 pm

परिकल्पना समूह : एक विहंगावलोकन परिकल्पना समूह : एक विहंगावलोकन

परिकल्पना पर आज : गुरु बिनु ज्ञान कहाँ जग माही.... आज शिक्षक दिवस है। दिवसों की भीड़ में एक और दिवस.......! गुरु, शिक्षक, आचार्य, उस्त...

और जानिएं »
12:26 pm

गुरु बिनु ज्ञान कहाँ जग माही.... गुरु बिनु ज्ञान कहाँ जग माही....

आज शिक्षक दिवस है। दिवसों की भीड़ में एक और दिवस.......! गुरु, शिक्षक, आचार्य, उस्ताद, अध्यापक या टीचर ये सभी शब्द एक ऐसे व्यक्ति को व्याख्...

और जानिएं »
7:59 am

परिकल्पना समूह : एक विहंगावलोकन परिकल्पना समूह : एक विहंगावलोकन

वटवृक्ष पर आज : प्यार ज़िन्दगी कहाँ से शुरू होती है , उस रुदन से, जब माँ के गर्भनाल से अलग होता है बच्चा , या वहाँ से जब माँ के अन्दर एक ...

और जानिएं »
2:36 pm

वजह क्या है ? वजह क्या है ?

भूख-वहशी , भ्रम -इबादत वजह क्या है हो गयी नंगी सियासत , वजह क्या है ? मछलियों को श्वेत बगुलों की तरफ से - मिल रही क्या खूब दावत , वजह क्या...

और जानिएं »
1:30 pm

बहुप्रतीक्षित वटवृक्ष का शुभारंभ बहुप्रतीक्षित वटवृक्ष का शुभारंभ

कहते हैं समय ठहरता नहीं , मौसम बदलते हैं , तेवर बदलते हैं , चाँद भी पूर्णता से परे होता है और अमावस की रात आती है ... यूँ कहें अमावस जीवन का...

और जानिएं »
12:34 pm

दौड़ा दी मुहब्बत नस-नस में बंसी के बजाने वाले ने ... दौड़ा दी मुहब्बत नस-नस में बंसी के बजाने वाले ने ...

आज श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के लिए अधिकांश मंदिर सजधज कर तैयार हैं। अधिकांश मंदिरों में 'जय कन्हैया लाल' के जयकारे और 'गिरधर नागर...

और जानिएं »
5:59 pm

रमजान का महीना ये याद दिलाता है .... रमजान का महीना ये याद दिलाता है ....

"हुजुर सल्लाहो अलैहे वसल्लम, कहते हैं बांटो खुशियाँ औरों का लेके गम ! रमजान का महीना ये याद दिलाता है- इस्लामे हर सिपाही का ईमान और कर...

और जानिएं »
3:32 pm
 
Top