मैं अनिल जी के चौखट पर कई बार गया ... भावनाएं थीं , पर बाड़ नहीं लगे थे... हवाएँ थीं , नमी थी पर सिंचन में कमी थी .... आज कुछ विराम के बाद मैं वहाँ गया और देखा फसलों में एक अंकुरण है , जो कह रहे हैं ' देर है अंधेर नहीं '... आइये मेरी सच्चाई का आकलन कीजिये ,

मैं कहता हूँ ...

लोग कहते हैं... क्यूँ
बेतरतीब सा रहा करते हो?
लोग अपने संग हुजूम ज़माने सा लगाते हैं
तुम क्यूँ दोस्त बनाने से डरते हो ?
मैं कहता हूँ - मैं खुश न रहूँ खुद से तो न !

कहा करते हैं सब
अंडर सेट्स कपडे क्यूँ नहीं पहना करते तुम ?
शकल अच्छी न सही, कम से कम
लोगों की नक़ल तो ठीक से कर लो
मैं कहता हूँ - नक़ल तो कर लेता मगर मैं, मैं बचूं तो न

अक्सर झेलनी पड़ती है
तमाम मेरी आदतों की खिलाफत
घर से बाहर तक
क्यूँ ये नहीं, क्यूँ वो नह ?
मैं कहता हूँ मैं ऐसा ही हूँ

लोग उदहारण दिया करते हैं लोगों की ..
सुझाव बहुत सारे
हर वक़्त मेरे कानों की चैन छीन लिया करते हैं
मैं कहता हूँ मैं ठीक हूँ जो ..
अभी की तरह नहीं हूँ
कम से कम जो हूँ.. वो दीखता तो हूँ ..
घिन आती है रंगे सियारों से
सफेदपोशों की दकियानूसी विचारों से

मुझे रहने दो मुझ सा ही
मैं बहुत खुश हूँ मैं जैसा भी हूँ..
==============================
कलम मेरी..

रोज चलती है कलम मेरी
तेरी ही वजह सिर्फ
तय करके चंद रास्ते मगर
कलम मेरी
ठिठक जाती है, ठहर जाती है

गर.. किस्सा शुरू करता हूँ कोई और
लिखने को सिर्फ
नई एक दास्ताँ पूरी भी नहीं होती
एक अधूरी दास्ताँ.. पूरी की पूरी
आँखों से होकर गुजर जाती है

फिर ....
कलम मेरी सहमकर..
ठिठक जाती है, ठहर जाती है

कुछ नया खुशनुमा
रचना चाहती है मेरी कलम
तरस जाती है खुशियों को
नहीं मिलती चाहकर भी

स्याही की औकात कहाँ ?
कागजों पर आंसुओं की
बेतरतीब बूँदें उभर जाती हैं

फिर .....
कलम मेरी सहमी सी
किसी कोने में रहती है घंटों
कोशिश करता हूँ मनाने को
मगर लिखने को मुकर जाती है

और भी रोता हूँ
जब लिख नहीं पाता
जब कलम मेरी डर जाती है
आदतों के खिलाफ...
कलम मेरी ठहर जाती है
==========================================
मुझे कवि न समझे..

नन्हीं सी हाथों में
पकड़ कर कलम करची की
लिखा पहला कौन सा अक्षर, ख्याल नहीं

मगर याद है.. तब भी, अब भी
महज खुश करने को नहीं
अपनी अभिव्यक्ति में
नए रंग भरने को भी
शब्दों को सुरमयी बनाने की कोशिश की हमने

गीत बनी या गजल,
कागज़ की आयतों पर
कीचड दिखी या कमल
ये तो सौदागर जाने शब्दों के

मैं तो वही लिखता हूँ बस
जो मेरी यादों में बसी जाती है
बयां वही करता हूँ हर्फों की दुआ से
जा कभी बनके कहानी
मेरी आँखों से बही जाती है

टिमटिमाते दूर गगन में ओझल सा
तारा हूँ मैं तारा...
कोई मुझे रवि न समझे

अभिव्यक्तियों के लिए बहुत ही कम
शब्द भटकते हैं मेरे पास
बस समझ लेता हूँ सबों की
और कह लेता हूँ खुद की बेसुर होकर
आवारा हूँ मैं आवारा...
कोई मुझे कवि न समझे..

अनिल अवतार
===============================================================
अनिल अवतार की गंवई अभिव्यक्ति के रसास्वादन के पश्चात चलिए अब चलते हैं उत्सव के सताइसवें दिन के द्वितीय चरण में प्रसारित कार्यक्रमों की ओर :


kidney_thumb

बात बात में बात की तह तक पहुँचे अमर कुमार

चुनरी में दाग…./ नया सँशोधित सँस्करण 2011 खबर है, एक जिम्मेदार पुलिसतंत्र के ठीक नाक के नीचे एक गैरजिम्मेदार...
4 augest 2011 copy

देवेन्द्र ओझा के कार्टून्स: संसद का मॉनसून सत्र



scene-of-indian-village-PB93_l

संतोष त्रिवेदी की कविताएँ

मेरा गाँव ! याद बहुत आते हैं हमको महुआ, गूलर, आम ! गलियारे,पगडंडी,बरगद,जीवन के थे नाम !! गौरैया आ पास...
default

“पता नहीं”

ये मत समझिएगा कि मुझे कुछ पता नहीं… दोस्तों मुझे सब पता है, पर मैं तो उनकी बात कर रहा हूँ जिन्हें...
moon (1)

आज चाँद पूरा है फलक पर

चाँद हर दिन के साथ बढ़ता हुआ हर दिन के साथ घटता हुआ जिंदगी के उतार-चढ़ावों को अपनी चाँदनी से सराबोर...
इसी के साथ आज के समस्त कार्यक्रमों को विराम देते हैं, किन्तु आपके लिए छोड़ जाते हैं अद्भुत रचनाओं की श्रृंखला ....इस वायदे के साथ कि हम परसों फिर उपस्थित होंगे सुबह ११ बजे परिकल्पना पर, जहां आप होंगे हमारे साथ और होगा रचनाओं का विस्तृत आकाश, तबतक के लिए शुभ विदा !

12 comments:

  1. सचमुच अद्भुत रचनाओं की श्रृंखला श्रृंखला है यह, अच्छी -अच्छी कविताओं से परिचय हुआ ....यह परिकल्पना वाकई अद्भुत,अद्वितीय और अतुलनीय है, रवीन्द्र जी,अविनाश जी और रश्मि जी को बधाईयाँ ब्लॉगोतसव को नया मुकाम दिलाने हेतु !

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह बहुत खूब..सभी रचनाएं एक से बढ़कर एक हैं बधाई के साथ शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपने सही कहा, यहाँ है रचनाओं का विस्तृत आकाश !

    उत्तर देंहटाएं
  4. टिमटिमाते दूर गगन में ओझल सा
    तारा हूँ मैं तारा...
    कोई मुझे रवि न समझे.....!

    वाह बहुत खूब..सभी रचनाएं एक से बढ़कर एक ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. व्वाह!! बहुत खुबसूरत रचनाएं हैं अनिल जी की..
    सादर बधाई एवं आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अनिल जी कि रचनाओं से परिचित कराने का बहुत बहुत शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  7. अनिल जी के ब्लॉग कि किसी भी पोस्ट को क्लिक करने पर रश्मि प्रभा जी का ब्लॉग खुल रहा है ... अलग से उनकी कोई पोस्ट कैसे खोलें ?

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो
    चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अनिल जी की कविताओं में अनगढ़ ही सही अपना अंदाज है . कच्ची अमिया सा तेज . थोड़ी देर डाल पे रहे तो बड़े मीठे आम होंगे ये.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top