आज चौबे जी बहुत खुश हैंकह रहे हैं कि "राम भरोसे देखा ....अन्ना ने चूसा दिया नs गन्ना भ्रष्टाचारियों को .... बड़ा हेकड़ी बग्घार रहे थे पहिला दिनकि अनशन के लिए पुलिस के पास जाईयेबाद में खुदै करने लगे खातिरदारी  अब हमरे अन्ना से कोई टेढ़िया के अऊर रेरियाके बतियायेगा तो यही हस्र होगा नs s s .... डरता ऊ है जिसको कुछ खोने का डर होता हैअब अन्ना के पास का है जो ऊ खो देगा ? स्टार टी.वीवाला चौरसिया  कह रहा  था  कि रालेगण सिद्धि में बेचारा मंदिर की एगो कोठारिया में पडा रहता है दिन भर , एक ठे बक्सा है , जिसमें कपड़ा-लात्ता अऊर पीढिया  बगैरह  मडई के किनारे पडा रहता हैकमरा में एक ठे झिलंगा खटिया है और कुछ कसकूट के थरिया .... रतिया को सोने के समय सब खटिया के नीचे अंडसा दिया जाता है ....इसको कहते हैं असली संतका समझे ?"

मगर  महाराज अन्ना जी के  अनशन करत-करत जिनिगिया बीत जाई आउर जबतक जन लोकपाल बिल पारित हो के आई नतबतक खाली हो जाई ससुरी स्विस बैंक के खातन  से हमरे देश कपईसा   फिर कईसे होई जन लोकपाल बिल से क़माल,जब होई जाई मामला ठनठन गोपाल बोला राम भरोसे 

अब इस बात पर हम बिना कवनो लाग लपेट के बोलेंगे तो बोलोगे कि बोलता है । मगर का करें हम जनता हैं आऊर ऊ जनार्दन, जब दिल कुहुकेगा तो बोलेंगे ही ...न चाहते हुए भी अपना मुंह खोलेंगे ही ...ज़रा सोचो राम भरोसे  भाईजब जनता के हित की बात आती है, तब सदन में इनके अहं टकरा जाते हैं ,हफ़्तों सदन नही चलते, पर जब खुद जनसेवकों की सुविधाएं बढाने की कोई बारी आती है तो एक मिनट मा प्रस्ताव कईसे पास हो जाता है  ? कईसे सब चोर-चोर मौसेरे भाई एक हो जाते हैं ? यह काम इन सबके लिए बड़े नेक हो जाते हैं ? है कोई उत्तर इनके पास अपनी लंबी दाढ़ी सहलाते हुए पूछा रमजानी 

एकदम्म सही कहत हौ रमजानी। सरकार सोचत रही कि रामलीला मैदान मा जैसे बाबा बम के डिफ्यूज कर दिहल गईल रहेवैसे ही अन्ना टीम  के रथ के पहिया पंचर कर दिहल जाई । जैसे ही हवा फुस्स से निकली अन्ना बेदम हो जयिहें फिर अन्ना के मुंह में पाँव रोटी ठूंस दिहल जाईन रही अनशन रूपी बांस न बाजी सत्याग्रह रूपी बांसुरी ।मगर सब उल्टा-पुल्टा हो गईल,कहले s अन्ना कि,जान दे देब बाकिर ग्लूकोज ना चढ़वाएब....बोला राम भरोसे। 

बहुत देर से चुप गुलटेनवा से रहा नहीं गयाबोला "ये कोई बात हुई कि लरिका-फरिका जईसन जिद पकड़ लिए तो मानेंगे नहीं और मानेंगे भी तो चांद खिलौना लेकर ही मानेंगेनहीं तो भूखे ही मर जाएंगे। अन्ना के ई तरिका ठीक ना ह। अन्ना समझने का नाम नहीं ले रहेबताओ गजोधर भईया अलग-अलग किस्मों-रंगों में भ्रष्टाचार ऐसे घुसा बैठा है कि सरकार के साथ-साथ हमको भी डर लगता है कि बिना भ्रष्टाचार के हम रह पाएंगे भी या नहीं।"

इतना सुनते ही तिरजुगिया की माई चिल्लाई......"गजोधर का कहिहें पहिले हमार बात सुनs लोगन कि अन्ना के लोकपाल बिल पर आशंका जतावे वाला हर आदमी के सरकार के पिट्ठू अउर देशद्रोही बता के का ऊ असहिष्णु अउर असंवेदनशील नइखन बनत अन्ना अउर उनकर टीम पूरा विश्वास के साथे कइसे ई दावा कर सकत हैं कि ऊ जवन जन लोकपाल बिल देत बाडऩ उहे सही बा अउर केहू एकर आलोचना नइखे कर सकत?  " 

चाची की बात मा दम्म हरमजानी भाईअगर सरकार जनादेश अउर संसद के सर्वोच्चता के आड़ में लुकात बिया तs का अन्ना के टीम देखावटी नैतिकता के आड़ में लुकाए के कोशिश के दोषी नइखे ?  पूछा गजोधर !

इतना सुन के चौबे जी का चेहरा छूछमाछर हो गयालगे घिघियाने और गजोधर की हाँ में हाँ मिलाते हुए बोले "ई सच है बबुआ कि जवन देश ने नाकामी के अनगिनत किस्से रचे,अपराध के सारे रिकॉर्ड तोड़े,भ्रष्टाचार जहां पटवारी से लेकर प्रधान मंत्री के रगों में दौर लगा चुका होवहां अन्ना के जन लोकपाल क़ानून से एकबारगी बंद थोड़े नहो जाएगा। पहिले तजो हुआ वो भी ठीक,जो हो रहा है वो भी ठीक। जो होगा वो भी ठीक होगा। सब ऊपर वाले की माया है। वो जो करेगा अच्छा ही करेगा,ज्यादातर हमारा देश इसी थेयोरी पर चलता है। खासकर बेकाबू हालात में बेबस इंसानों को यह थेयोरी कुछ ज्यादा ही याद आती है ।कर्म के बजाये छोटे-छोटे खानों में बंटना । भाग्य के सहारे जीना । खुद कुछ ना करना । जो करो तो उल्टा-पुल्टा । फिर सबकुछ ऊपर वाले के भरोसे छोड़ देना। चादर लंबी तानकर सो जाना। जो होगा देखा जाएगा वाली सोच बदले के होई यानी कि ई देश से भ्रष्टाचार तभी जाई जब ई देश की जनता अपने आप के बदलीघूस लेबे की प्रवृति से ज्यादा ई देश मा घूस देबे की प्रवृति हैजे के बदले के होई  क़ानून अपनी जगह है बबुआ बदलाव अपनी जगह।

इतना कहकर चौबे जी ने चौपाल अगले आदेश तक के लिए स्थगित कर दिया।
रवीन्द्र प्रभात 
(नियमित स्तंभ : चौबे जी की चौपाल के अंतर्गत दैनिक  जनसंदेश  टाइम्स  में दिनांक २८.०८.२०११ को प्रकाशित )  


आगे पढ़ें :

image014

मरै सो जीवै

ललित निवंध हमारे देश की विभिन्न भाषाओं में संत साहित्य की लम्बी परंपरा है। कोई बड़ी पीड़ा, कोई...
IMG_3239-300x225

परख लो मुझे

एक सोच फ़िर से देता हूँ तुम्हे वक्त लेना ख़ुद को बिल्कुल एकाकी कर लेना सोच में। फ़िर देखना क्या...
img1100616033_1_1

जिंदगी के सत्य से दो मुलाकातें…

पहली मुलाक़ात आज रश्मि हॉस्पिटल गयी थी. अपने हाथ का प्लास्टर कटवाने, कुछ दिनों पहले एक छोटे...
G_4_909331084

मिलती है राजनीति में कुर्सी कभी-कभी

चौबे जी की चौपाल से आज चौबे जी बहुत गुस्से में हैं । संसद के मॉनसून सत्र में मंहगाई और भ्रष्टाचार...
1982011_BIGtoon1

एक कार्टूनिस्ट की नज़र में अन्ना का अनशन

चन्द्रशेखर हाडा http://currentcartoons.blogspot.com/ cartoonist एक निजी फर्म में असिस्टेंट मैनेजरी करते-करते फ्रिलांश...
_DSC2180

ज्योति चौहान की दो कविताएँ

(1) वो कहते है वो कहते है कि “भूल जाऊ में उन्हें ”, पर कोई बताये तोह हमे कि भला ये कैसे मुमकिन है? जबकि...
annaa andolan

भारतीय लोकतंत्र की समस्या और समाधान

आकलन:अन्ना आन्दोलन अब जब अन्ना का आन्दोलन थम गया है, उनके प्राणों पर से संकट टल गया है यह समय समस्या...

9 comments:

  1. एक वेहतर व्यंग्य, सुन्दर प्रस्तुति ....बधाईयाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही है , सिर्फ कानून से ही बात नहीं बनती , मगर इस आन्दोलन ने कानून बनाने में आम आदमी की राय पर विचार करने की आवश्यकता और भागीदारी को सुनिश्चित किया!

    उत्तर देंहटाएं
  3. राजनीतिक आज सबके निशाने पर हैं,यह मौका भी उन्होंने ही दिया है.
    ऐसे प्रहार समय-समय पर होते रहने चाहिए !

    उत्तर देंहटाएं
  4. अन्ना जी के अनशन करत-करत जिनिगिया बीत जाई आउर जबतक जन लोकपाल बिल पारित हो के आई नs तबतक खाली हो जाई ससुरी स्विस बैंक के खातन से हमरे देश कs पईसा । फिर कईसे होई जन लोकपाल बिल से क़माल,जब होई जाई मामला ठनठन गोपाल ?

    बहुत सही, चौबे जी महाराज की जय !

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही कटाक्ष,संतोष जी ने सही कहा कि ऐसे प्रहार हमेशा होते रहने चाहिए !

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

 
Top